Weight Loss Tips

Weight Loss Tips Home Remedies In Hindi

Share This Article

Weight Loss Tips Home Remedies In Hindi

वजन घटाना है तो भरपेट खाएं | @ Weight Loss Tips In Hindi @

लोग वजन घटाने के लिए क्या-क्या नहीं करते। कुछ लोग जिम ज्वाइन करते हैं, कुछ डायटिंग करना शुरू करते हैं तो कुछ दवाईयां लेते हैं। लेकिन फिर भी वजन घटाने में असमर्थ रहते हैं। Weight Loss Tips Home Remedies In Hindi

लेकिन क्या आप जानते हैं यदि आप सचमुच अपना वजन कम करना चाहते हैं तो आपको इसमें से कुछ नहीं करना होगा बल्कि इसके बजाय आपको पारंपरिक आहार लेना होगा यानी वजन कम करने के लिए आपको भोजन भरपेट खाना होगा। आइए जानें कैंसे भरपेट भोजन करके वजन घटाया जा सकता है।
वजन घटाने के तरीके –

  • वजन घटाने के लिए जरूरी नहीं कि आप डायटिंग करें या फिर हमेशा वजन कम करने के लिए तनाव में रहें बल्कि आपको अपना वजन घटाने के लिए संतुलित डाइट लेनी चाहिए।
  • यदि आप सचमुच सही तरीके से अपना वजन कम करना चाहते हैं तो आपको सुबह-दोपहर और शाम के खाने के बीच बहुत ज्यादा अंतराल नहीं रखना चाहिए बल्कि आपको बीच-बीच में भी कुछ हेल्दी चीजें खाते रहना चाहिए जैसे- फल या सलाद।
  • अचानक से वजन घटाने के बजाय आप यह सुनिश्चित करें की आपको हर माह कम से कम एक से डेढ़ किलो वजन घटाना है।
  • ऐसा नहीं कि आप दिनभर खाते रहें बल्कि आप दिनभर शारीरिक श्रम करें और अपनी कैलोरी में से कुछ कैलोरी जैसे- 50 या 100 कैलोरी खाना रोज से कम खाएं।
  • वजन कम करने के लिए डायटिंग करने या खाना कम करने के बजाय आप ऐसे पदार्थों का सेवन कम करें जिसमें वसा की मात्रा अधिक हो या फिर जिससे वनज बढ़ने की संभावना हो। जैसे- आप अपनी चाय या अन्य पदार्थों के सेवन में चीनी का कम से कम इस्तेमाल कर सकते हैं। बल्कि इसके बजाय शहद या शुगर फ्री चीनी का इस्तेमाल करें।
  • यदि बाहर सप्ताह में दो बार बाहर का खाना या फिर जंकफूड खाना पसंद करते हैं तो सप्ताह में एक बार ही खाएं और धीरे-धीरे इसे बिल्कुल कम कर महीने में एक बार लें।
  • आपको फुलक्रीम दूध या उसकी चाय या फिर मलाई इत्यादि पसंद हें तो इसके बजाय आप टोंड दूध का इस्तेमाल करें।
  • यदि आप षाम के समय चाय के साथ बिस्किट लेने के षौकीन है तो षुगर फ्री बिस्किट लें।
  • वजन कम करने के लिए दूध की चाय के बजाय एंटीआक्सिडेंट से भरपूर ग्रीन टी, लेमन टी लें।
  • आप दिन में दो बार पराठें खाते हैं तो उसकी बजाय सूखी चपाती खाएं और साथ में सब्जी की मात्रा अधिक रखें या फिर आप पराठें की मात्रा तीन से दो कर सकते हैं।
  • एकबार में बहुत सारा खाना खाने के बजाय दो या तीन बार में खाएं। इससे आपका खाना भी पचेगा और वजन भी नहीं बढ़ेगा।
  • कहने का अर्थ है कि आप अपने खान-पान में कमी न करें लेकिन उसमें थोड़ा बहुत बदलाव समय-समय पर करते रहें, इससे आपको
  • प्रभावशाली परिणाम भी जल्द मिलेंगे और अचानक से बहुत ज्यादा किसी चीज को ना तो छोड़ने में तकलीफ होगी, ना ही किसी तरह की कोई स्वास्थ्य संबंधी समस्या आएगी।

वजन घटाने के लिए चबाकर खायें | @ Weight Loss Tips In Hindi @

बचपन से हमें कहा जाता हैं कि खाने को चबाचबा कर खाना चाहिए। लेकिन जैसे-जैसे हम बड़े होते जाते है यह बात हमारे मन-मस्तिष्क से निकल जाती है। कई बार खाने का स्वाद और कई बार कई चीजों को एक साथ खाने की इच्छा हमें बहुत चबा-चबा कर खाने का मौका नहीं देती।

कई बार ऐसा भी होता है कि आधुनिक जीवनशैली और तेज-रफ्तार जिंदगी में हम फास्टफूड की तर्ज पर ही तेज गति से खाना खाते है तो कई बार कहीं जल्दी जाने या समय पर पहुंचने की तर्ज पर हम भागते-भागते खाना खाते हैं। लेकिन आप अपनी इस जल्दी खाने की आदत के कारण मोटापे का शिकार भी बन रहे हैं। खाद्यान्नों में कैलोरी की मात्रा सही से हमारे शरीर में नहीं जा पाती। इसके अलावा भी क्या आप जानते हैं कि खाने को धीरे-धीरे चबा-चबा कर खाने से आप अपना वजन भी कम कर सकते हैं। आइए जानें इस बात में कितनी सच्चाई है कि वजन घटाने के लिए चबाकर खाना जरूरी है।

  • धीरे-धीरे खाना और चबाकर खाने का एक फायदा तो यह है कि आप देर तक खाएंगे जिससे आप कम खाना खा पाएंगे और इससे आपका वजन भी नहीं बढ़ेगा। यानी बहुत देर तक लगातार
    खाने से आपकी भूख मर जाएगी।
  • चबा-चबा कर खाने के और भी कई फायदे हैं जैसे जो भी खाद्य पदार्थ आप खा रहे हैं उसमें उपयुक्त प्रोटीन, कैल्शियम, आयरन, विटामिन और अन्य पोषक तत्वों का आपके शरीर पर सकारात्मक प्रभाव दिखाई देगा और आप फिट रहेंगे।
  • चबाकर खाने से खाना जल्दी पच जाता है और आपको बहुत ज्यादा देर तक भूख नहीं लगती।
  • जो लोग मोटापे का शिकार हैं उनके लिए बहुत जरूरी है कि वे एक प्लेट मे कम भोजन लें लेकिन उसे इतनी देर तक खाएं जब तक उनका भोजन से मन न भर जाएं। इससे मोटे लोगों को अपना वजन नियंत्रित करने में बहुत मदद मिलेगी।
  • हमारे यहां एक कहावत भी है कि पानी को इस तरह पीओ जैसे आप खाना खा रहे हो। खाना इस तरह से खाओ जैसे आप पानी पी रहे हो। यानी खाना चबाते-चबाते पानी हो जाएं और पानी धीरे-धीरे पीएं जैसे खाना खाएं।
  • सिर्फ खाना ही नहीं बल्कि तरल पदार्थों को भी धीरे-धीरे खाने से लाभ होता है। यदि आप वाकई अपना वजन कम करना चाहिए तो आपको खाने-पीने की हर चीज जो आप खाते हैं उसे तसल्ली से पूरा समय लगाकर खाना चाहिए।
  • यह बात शोधों में भी साबित हो चुकी है कि जो व्यक्ति खाना चबाकर खाते हैं, उन्हें खाना पचाने में तो आसानी होती ही है साथ ही वे जल्दी मोटापे जैसी बीमारियों का शिकार होने से भी बच जाते हैं।
  • अगर आप सचमुच अपना वजन कम करना चाहते है। तो इधर-उधर भटकने के बजाय खाना चबाकर खाएं। आप कुछ ही दिनों में इसके आप सकारात्मक परिणाम देखेंगे।
  • वज़न कम करने के फायदे | @ Weight Loss Tips In Hindi @

    जब आप सुनते हैं कि किसी आदमी का वेट आवश्यकता से अधिक बढ़ गया है तो आप के मन में उसके प्रति एक बढ़ा हुआ पेट और चलने फिरने में असमर्थ दिखने वाले व्यक्ति की तस्वीर निकलकर सामने आने लगती है। यह सच भी है कि बड़े हुए पेट के कारण आदमी एक साथ कई तरह की परेशानी से मुबतला हो जाता है और इस बीमारी के पीछे कई कारण होते है।

    आदमी में वजन का बढ़ना एक्सारसाइज की कमी, तनाव, हार्मोनल असुंतुलन और खान–पान की गलत आदतों व आराम तलब जीवन के कारण होता है। तेजी से भागती दौड़ती जिंदगी में काम का प्रेशर और तनाव के कारण आदमी को एक्सरसाइज करने का फुर्सत नहीं मिल पाता है।

    मोटापे में पेट का मोटा होना सबसे अधिक खतरनाक माना जाता है जो बीमारियों की खान होता है और एक तरह से पेट बढ़ने पर इसे साइलेंट किलर समझा जाता है। मोटापा में यदि आदमी शराब पीता हो और धुम्रपान करता हो तो उसे हृदय रोग, डायबिटीज, लिवर और किडनी की समस्याएं होना आम हो जाती है। तनाव की हालत में अक्सर व्यक्ति तनाव से छुटकारा पाने के लिए सिगरेट, शराब या तंबाकु का सहारा लेता है ताकि उसका तनाव कम हो जाए । बहुत से लोग अपने स्वास्थ्य और फिटनेस पर तबतक ध्यान नहीं देते हैं जबतक कि उनके शरीर में किसी तरह की कोई परेशानी नहीं होती है। कुछ पुरूष भी महिलाओं की तरह बीमारी होने पर उसे टालते रहते है और अंतिम अवस्था में जाकर उसका इलाज कराते है। आदमी अपने जीवन में स्वस्थ जीवन शैली, उचित आहार और नियमित एक्सरसाइज को अपनाकर मोटापे की समस्या को अपने से कोसो दूर रख सकता है।

    पुरूषों के लिए अपना वजन कम करना क्यों महत्वपूर्ण है

    बीमारियों से मुक्त और स्वस्थ जीवन जीने के लिए पुरूषों को अपने वजन को नियंत्रण में रखना या बड़े हुए वजन को कम करना बहुत ही जरूरी है। आदमी का वजन बढ़ना न सिर्फ उसके लिए अनअपीलिंग लुक और भद्दा लगता है बल्कि इससे जीवन के लिए खतरा उत्पन्न करने वाली बहुत सारी बीमारियां भी आपको अपनी चपेट में ले लेती है। मोटापा बढ़ने से निम्नलिखित बीमारियों के बढ़ने और इसके परिणामस्वरूप जीवन के लिए खतरा पैदा होने की आशंका बनी रहती है।

    हाइपरटेंशन या उच्च रक्तचाप और कोलेस्ट्रोल की समस्या

    ओवर वेट आदमी अक्सर उच्च रक्तचाप और कोलेस्ट्रोल की समस्या से पीडि़त रहता है। इन बीमारियों का अगर समय पर इलाज नहीं कराया जाता है तो आगे चलकर इसके परिणाम स्वरूप हृदय रोग और हदयघात के खतरे बढ़ जाते है।

    हृदय रोग

    ओवर वेट आदमी में हृदय की गति का तेज़ होना हृदय घात के खतरे, पतले आदमी की तुलना में कई गुना ज्यादा बढ़ जाता है। इस बीमारी से सालाना लाखों लोगों की असमय मौत हो जाती है। आधुनिक जीवन शैली और उसमें होने वाले तनाव के कारण समय से पहले और अचानक हृदयघात के खतरे पैदा होते है।

    कैंसर

    मोटापे से, खासकर पुरूषों में प्रोस्टेरेट ग्रंथी और आंत का कैंसर होने का खतरा रहता है।

    तैराकी से मोटापा कम करें | @ Weight Loss Tips In Hindi @

    गर्मी का मौसम शुरू होते ही पानी का उपयोग बढ जाता है। मौसम गर्म होने पर लोग पानी में रहना ज्यादा पसंद करते हैं। इस मौसम में तैरने का अपना अलग ही मजा है। तैराकी हर प्रकार के योगा और जिम जाने से बेहतर ऑप्शन है।

    तैरना शरीर के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है क्योंकि इसमें पूरे शरीर का व्यायाम होता है। तेज तैराकी से शरीर को आराम मिलता है क्योंकि शरीर आसानी से पानी में गति करता है। 30 मिनट तक तैरकर शरीर से 400 कैलोरी घटाया जा सकता है। तैरने से रक्त संचार बढता है, जिससे सिर दर्द और तनाव से मुक्ति मिलती है।

    तैराकी की विभिन्न क्रियाएं –

    फ्रंट स्ट्रोक –

    फ्रंट स्ट्रोक में पेट के बल तैरा जाता है और दोनों बांहे नीचे की ओर घूमती हुई जाती है तथा दोनों टांगे बारी-बारी से चलती है। हाथ आगे खींचने पर पेट पर दबाव पड़ता है तथा पूरे शरीर में खिंचाव पैदा होता है। इससे पेट के पास मौजूद अतिरिक्त चर्बी समाप्त होती है।

    ब्रेस्ट स्ट्रोक –

    इसमें शुरू में दोनों बांहे एक-साथ चलती है फिर बाद में दोनों पैर। 30 साल से ज्यादा उम्र वाली महिलाओं में यह क्रिया ज्यादा प्रचलित है, इसमें ज्यादा थकान नहीं महसूस होती है। इससे टांगों और कूल्हों को बहुत ज्यादा लाभ होता है। इससे पेट, कमर, सीने और हाथ-पैर की चर्बी कम होती है।

    बैक स्ट्रोक –

    बैक स्ट्रोक पीठ के बल की जाती है। इससे दोनों टांगे घूमती हुई बारी-बारी से ऊपर से नीचे की ओर आती है। इस क्रिया को पीठ के बल करने के बावजूद भी पेट पर इसका असर पड़ता है और पेट की चर्बी समाप्त होती है।

    बटरफ्लाई स्ट्रोक –

    इस क्रिया में शरीर के आगे का भाग, बांहे और सिर पहले पानी से बाहर निकलते हैं और बाद में दोनों पैर साथ-साथ चलते हैं। इसे करने के लिए शरीर लचीला होना चाहिए। इस क्रिया से शरीर पर बहुत ज्यादा जोर पड़ता है और ताकत भी ज्यादा लगती है। इससे ज्यादा कैलोरी बर्न होती है।

    वजन घटाने वाले आहार | @ Weight Loss Tips In Hindi @

    आप ने हमेशा सुना होगा कि खाने से मोटापा बढता है, क्‍या कभी आपने ऐसा भी सुना है कि खाने से वजन भी कम होता है तो हम आपको बताते है कि कुछ ऐसे भी भोजन हैं जिनके सेवन से आपका वजन जल्दी घट सकता है।

    मोटापे पर नियंत्रण रखना स्वास्थ्य के लिए बेहद आवश्यक है लेकिन वजन घटाना आजकल एक ट्रेंड बन गया है। वजन कम करने के कई तरीके हैं लेकिन आहार के द्वारा वजन कम करना स्वास्‍थ्‍य के हिसाब से ज्यादा फायदेमंद होता है। कुछ ऐसे फूड्स हैं जिनको अपनी डाइट में शामिल करने से वजन को कम किया जा सकता है। कम वसा और खाने में कार्बोहाइडेट की मात्रा को कम करके वजन पर नियंत्रण पाया जा सकता है।

    मोटापा घटाने वाले आहार –

    बींस –

    बींस को मोटापा घटाने के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। क्योंकि बींस में ऐसे तत्व होते हैं जो कॉलेसिस्टॉकिनिन नाम के डाइजेस्टिव हार्मोन को लगभग दो गुना बढाता है। इसके अलावा बींस ब्लड शुगर के स्तर को बनाए रखता है, जिससे लंबे समय तक भूखे रहने पर नुकसान न हो। बींस को हाई फाइबर डाइट माना जाता है जो कॉलेस्ट्राल को कम करता है।

    अंडा –

    अंडा प्रोटीन का खजाना होता है। सुबह नाश्ते में अंडा खाना सेहत के लिहाज से बहुत अच्छा होता है। अंडा खाने से कम भूख लगती है।

    सैलेड –

    लंच और डिनर में खाने की शुरूआत सैलेड से कीजिए। सैलेड क्रीमी ड्रेसिंग के बगैर होना चाहिए। खाने से पहले एक बडी प्लेट लो कैलरी सैलेड खाने के बाद खाना कम खाया जाता है। सैलेड में विटामिन सी और ई के अलावा फॉलिक एसिड, लाइकोपीन और कैरोटेनॉयड्स आदि पोषक तत्व होते हैं जो प्रतिरोधक क्षमता बढाते हैं।

    ग्रीन टी –

    ग्रीन टी में कैटेशिंस नाम के एंटीऑक्सिडेंट्स मौजूद होते हैं जो फैट को जलाते हैं और मेटाबॉलिज्म को बढाने में मदद करते हैं। ग्रीन टी बॉडी मास इंडेक्स को घटाने और हानिकारक एलडीएल कॉलेस्ट्रॉल कोकम करने में भी मदद करती है।

    नाशपाती –

    नाशपाती फाइबर का खजाना होती है। लगभग छह ग्राम की एक नाशपाती आपकी भूख को संतुष्ट करने के लिए पर्याप्त होती है। इसमें पेक्टिन फाइबर होता है जो ब्लड शुगर के स्तर को कम करता है। असमय भूख लगने पर हाई कैलोरी स्नैक्स लेने के बजाय नाशपाती खाएं।

    सूप –

    एक कप चिकन सूप और एक नॉर्मल साइज चिकन पीस से लगभग एक जैसी ही भूख मिटती है। सूप भूख कम करने में सहायक होता है।

    ऑलिव ऑयल –

    बढती उम्र में फैट कम करना मुश्किल होता है। ऐसे में ऑलिव ऑयल आपके लिए मददगार साबित हो सकता है। ऑलिव ऑयल मोनोअनसैचुरेटेड फैट्स से बना होता है जो कैलोरी जलाने में सहायक होता है। ऑलिव ऑयल मेटाबॉलिज्म बढाने में मदद करता है।

    दालचीनी –

    भोजन के बाद मीठा खाना मोटापे का बडा कारण होता है। माइक्रोवेव किए हुए ओटमील या टोस्ट पर दालचीनी पाउडर डाल कर खाएं इससे अनचाही कैलोरी से छुटकारा मिलेगा।

    सिरका –

    विनेगर के सेवन से लंबे समय तक भूख नहीं लगती। ब्रेड स्लाइस को सिरके में डुबो कर खाने वालों को भूख कम लगती है। सिरके में मौजूद एसिटिक एसिड से पाचन में समय लगाता है, जिससे भूख देर से लगती है।

    इनके अलावा अंकुरित चने, हरी सब्जियां, शकरकंद, उबले आलू आदि अपने डाइट में शामिल करके मोटापा घटाया जा सकता है। वजन नियंत्रण के लिए खाना कम मात्रा में और सही समय पर खाएं।

    मोटापे के कारण | @ Weight Loss Tips In Hindi @

    आजकल की भागदौड़ की जिंदगी में कई गंभीर स्‍वास्‍थ्‍य समस्याएं होने लगी हैं। ऐसी ही एक गंभीर समस्या है मोटापा। मोटापे के कारण भी कई भयंकर बीमारियां हो जाती हैं।

    क्या आप जानते हैं मोटापे से कैंसर जैसी बीमारियां डायबिटीज और उच्च‍ रक्तचाप जैसी समस्याएं भी हो सकतीहैं। लेकिन सवाल ये उठता है कि मोटापे के कारण क्या‍ हैं। मोटापा किन चीजों से बढ़ता है और मुख्य कारक कौन-कौन से हैं। साथ ही मोटापा बढ़ने से क्या कुछ और समस्याएं हो सकती हैं। तो आइए जानें मोटापे के कारण क्या हैं और मोटापे से होने वाली समस्याओं से कैसे निजात पाएं।

    आज के समय में बडे-बूढ़े-बच्चे सभी मोटापे की चपेट में आ रहे हैं। ऐसा बेवजह और अचानक नहीं हो रहा। बल्कि इसके पीछे भी कई ठोस कारण छुपे हुए हैं।
    मोटापे के कारण ही बच्चों को नई-नई बीमारियां हो रही हैं।

    मोटापे का कारण :- | @ Weight Loss Tips In Hindi @

    शारीरिक निष्क्रियता

    आजकल लोग शारीरिक रूप से सक्रिय नहीं होते है और खासकर बच्चे अब बाहर खेलने-कूदने के बजाय कंप्यूटर, मोबाइल और वीडियो गेम खेलना अधिक पसंद करते हैं। जिससे बच्चों में भी मोटापा बढ़ता जा रहा हैं। सिर्फ बच्चे ही नहीं, ऑफिस जाने वाले युवा भी आज निष्क्रिय जीवनशैली जी रहे हैं, जिससे मोटापे जैसी समस्या हो रही है।

    जंकफूड का सेवन

    आजकल लोग घर के स्वादिष्ट व्यंजन और पौष्टिक खाना खाने के बजाय जंकफूड खाना पसंद करते हैं जो कि मोटापे के प्रमुख कारणों में से एक हैं। जंकफूड से ना सिर्फ मोटापा बढ़ता है बल्कि कई बीमारियां होने का खतरा भी रहता है।

    व्यायाम ना करना

    लोगों के पास भागदौड़ की जिंदगी में इतना समय नहीं बचता कि वे व्यायाम करें, लोग व्यायाम जैसी चीजों को बहुत हल्के में लेते हैं। नतीजन मोटापा बढ़ता रहता है।

    एक ही जगह बैठे रहना

    कई लोगों का काम सिर्फ एक ही जगह बैठकर करने का होता है, नतीजन लोग घूमना-फिरना बिल्‍कुल नहीं कर पाते और ऐसे में भूख भी बहुत लगती हैं। ये स्थिति मोटापे की बहुत बड़ी कारक है।

    डायटिंग जैसी चीजों को अपनाना

    कुछ लोग फिट होने के लिए डायटिंग जैसी आदतों को अपनाते हैं, नतीजन वे डायटिंग ठीक तरह से नहीं कर पाते जिससे उनका मोटापा कम होने के बजाय बढ़ जाता हैं।

    भूख से अधिक खाना

    कुछ लोगों को हर समय खाने की आदत होती है फिर चाहे उन्होंने थोड़ी देर पहले ही खाना क्यों ना खाया हो। ऐसे में हर समय खाने की आदत भी मोटापे का कारण बनती हैं।

    आनुवांशिक मोटापा

    कई बार मोटापे के कारणों में आनुवांशिकता भी छिपी होती हैं यानी घर का कोई सदस्य या माता-पिता में से कोई मोटापे का शिकार है तो बच्चे को भी मोटापे की शिकायत होती है।

    तनाव लेना

    कई बार लोग जरूरत से ज्यादा तनाव ले लेते हैं। क्या आप जानते हैं तनाव, डिप्रेशन और अवसाद जैसी चीजें मोटापे को जन्म देती हैं।

    दवाईयों के कारण

    किसी बीमारी के चलते लंबे समय तक दवाईयों का सेवन भी मोटापे का कारण बन सकता है। दरअसल दवाओं का साइड-इफेक्ट भी मोटापे के कारणों में से एक हैं।
    मोटापे के कई और भी कारण हैं जैसे अधिक सोना, खाने के बाद ना टहलना, लेटकर खाना, खाने के बीच पानी पीना।

    पेट कम करने के उपाय | @ Weight Loss Tips In Hindi @

    लोगों को सेहतमंद व फिट रखने में उनके आहर की अहम भूमिका होती है। व्यस्त दिनचर्या के कारण लोगों की शारीरिक गतिविधि दिन प्रतिदिन कम होती जा रही है जिसकी वजह से ली गई कैलोरी फैट में तब्दील होकर आपके पेट के आस-पास के हिस्सों में नजर आने लगती है।

    अक्सर लोग वजन कम करने में लगे रहते हैं। लेकिन सबसे अधिक जो समस्या आती है वो है पेट के आसपास की चर्बी को हटाना। क्या आप जानते हैं कुछ लोग मोटे नहीं होते लेकिन उनके पेट के आसपास काफी चर्बी जमा हो जाती है। पेट पर जमा फैट ना सिर्फ आपकी सेहत बिगाड़ता है बल्कि यह आपके लुक को भी खराब करता है। जानिए हमारे साथ पेट पर जमा चर्बी को कम करने के आसान व असरकारी उपायों के बारे में और फर्क देखिए-

    खाने के बाद पानी पीने से बचें | @ Weight Loss Tips In Hindi @

    अक्सर देखा गया है कि खाना खाने के बाद लोग ढेर सारा पानी पी लेते हैं जो कि पेट निकलने की मुख्य वजहों में से एक है। खाने के अन्त में पानी पीना उचित नहीं, बल्कि एक-डेढ़ घण्टे बाद ही पानी पीना चाहिए। अगर आपको ज्यादा प्यास लग रही है तो खाने के बाद बस एक कप हल्का गुनगुना पीएं।

    थोड़ा-थोड़ा करके खाएं

    तीन टाइम खाने की जगह थोड़ा-थोड़ा करके कई बार खाएं। हर दो घंटे में कुछ ना कुछ खाते रहें। इससे शरीर का मेटाबॉलिज्म तो ठीक रहता ही है साथ ही ऊर्जा का स्तर भी बना रहता है। खाने में प्रोटीन की मात्रा बढाएं। ये पचने में ज्यादा समय लेते हैं और पेट देर तक भरा रहता है। अंडे का सफेद भाग, फैट फ्री दूध व दही, ग्रिल्ड फिश और सब्जियां आपको स्लिम व फिट बनाएंगी।

    शहद है फायदेमंद

    जैसा कि हम सब जानते हैं शहद गुणों की खान है। यह मोटापा कम करने में भी कारगार है। रोजाना सुबह गुनगुने पानी में शहद मिलाकर पीएं। नियमित रुप से इस प्रक्रिया को अपनाने से आपको जल्द ही असर दिखाई देने लगेगा।

    ग्रीन टी पियें

    अगर आप चाय पीने के बहुत शौकीन हैं, तो आप दूध की चाय पीने के बजाय एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर ग्रीन टी, या फिर ब्लैक टी पियें। इसमें थायनाइन नामक अमीनो एसिड होता है जो मस्तिष्क में ऐसे केमिकल्स का स्त्राव करता है और आपकी भूख पर कंट्रोल करता है।

    मॉर्निग वॉक करें फिट रहें | @ Weight Loss Tips In Hindi @

    रोजाना सुबह सैर पर जाएं और रात के खाने के बाद भी सैर करना ना भूलें। इससे पेट और कमर की अतिरिक्त कैलोरी कम करने में मदद मिलेगी। क्‍योंकि नियमित रूप से सैर पर जाने से 25 फीसदी कैलोरीज बर्न होती है। पेट जल्दी कम करना है तो तीस मिनट के वॉक सेशन रखें। लगातार स्पीड से ना चल सके तो बीच में इंटरवल लें। थोड़ी देर तेजी से चलें और फिर स्पीड कम कर लें।

    उपवास करें

    यदि आप खाने-पीने के बहुत शौकीन हैं और अपनी इस आदत से भी परेशान हैं, तो इसका सबसे आसान तरिका ये है कि आप सप्ताह में कम से कम एक बार उपवास जरूर करें। आप चाहे तो सप्ताह में एक दिन तरल पदार्थों पर भी रह सकते हैं, जैसे- पानी, नींबू पानी, दूध, जूस, सूप इत्यादि या किसी दिन सिर्फ सलाद या फल भी ले सकते हैं।

    खान-पान का रखें खयाल

    यदि आप जंकफूड खूब खाते हैं या फिर आपको तैलीय खाना बहुत पसंद है तो अब इनसे परहेज करना शुरू कर दें। खाने में खासतौर पर सामान्य आटे के बजाय जौ और चने के आटे को मिलाकर चपाती खांए, इससे आप जल्द ही स्लिम ट्रि‍म होंगे। रोजाना कुछ ग्राम बादाम खाने से कमर की साइज 24 सप्ताह में साढ़े छह इंच कम हो सकती है। तो आज से ही तय करें कि रोजाना सौ ग्राम नट्स अपनी डाइट में जरूर से शामिल करेंगे। यह कैलोरी से भरपूर होने के साथ ही फाइबर युक्त भी होते हैं। भोजन में संतुलित कैलोरीज लें। आपको दिनभर में कम से कम 2000 कैलोरी जरूर ले।

    नींद पूरी करें

    संतुलित आहार व व्यायम के साथ पर्याप्त नींद लेना भी जरूरी है। नींद पूरी ना होने पर तनाव बढ़ाने वाले हार्मोन्स रिलीज होते हैं जो आपको खाने के लिए प्रेरित करते है जिससे पेट की चर्बी भी बढ़ती है। रात में 6 से 7 घंटे सोने वाले लोगों में पेट का फैट कम होता है। इससे ज्यादा या कम नींद लेने वाले लोगों को तोंद की समस्या ज्‍यादा होती है।

    योगासन है जरूरी

    कमर और पेट कम करने के लिए आप नियमित रूप से सुबह उठकर योग करें। वैसे भी आप योग से निरोग रह सकते है। लेकिन खासकर आप ऐसे आसनों को करें जिनसे आपके पेट और कमर को कम करने में मदद मिलें। रोजाना सूर्य नमस्कार की सभी क्रियाएं, सर्वांगासन, भुजंगासन, वज्रासन, पदमासन, शलभासन इत्यादि को करें।

    बॉल एक्‍सरसाइज करें

    जमीन पर पीठ के बल सीधा लेट जाएं। अब हाथों पर एक्‍सरसाइज वाली बडी़ बॉल को हाथों में ले कर अपने दोनों पैरों को ऊपर उठाएं। अब अपने हाथों की बॉल को अपने पैरों में पकड़ाएं और फिर पैरों को नीचे ले जा कर दुबारा बॉल ले कर ऊपर आएं। फिर पैरों से जो बॉल उठाई गई है उसे दुबारा हाथों में पकड़ाएं। इस क्रिया को लगातार 12 बार करें।ऐसा करने से पेट पर जमा फैट कुछ ही दिनों में कम होने लगेगा।


    Share This Article

    Leave a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    error: Content is protected !!